श्री अन्नपूर्णा रसोई योजना कब शुरु की गई ?

श्री अन्नपूर्णा रसोई योजना कब शुरु की गई ?

उत्तर – श्री अन्नपूर्णा रसोई योजना 6 जनवरी 2024 को राजस्थान के नये मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने शुरू की है।

श्री अन्नपूर्णा रसोई योजना

अन्नपूर्णा रसोई योजना दिसम्बर 2016 को राजस्थान के मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शुरू की थी। इसमें 5 रु. का नाश्ता और 8 रु. का खाना मिलता था। फिर 20 अगस्त 2020 को इन्दिरा रसोई योजना शुरू की गई थी।

  • राजस्थान के नये मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने इन्दिरा रसोई योजना का नाम बदलकर अब ’श्री अन्नपूर्णा रसोई योजना’ 6 जनवरी 2024 को शुरू की है।
  • अन्नपूर्णा रसोई योजना में थाली का वजन बढ़ाकर 450 ग्राम से 600 ग्राम कर दिया गया है।
  • एक थाली में 300 ग्राम चपाती, 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी और 100 ग्राम चावल व खिचड़ी तथा अचार भी शामिल है।
  • एक थाली पर कुल लागत 30 रु. है, जिसमें सरकार द्वारा 22 रु. का अनुदान दिया जायेगा और व्यक्ति को 8 रु. का भुगतान करना होगा। राजस्थान में 1000 अन्नपूर्णा रसोई योजना संचालित है।
  • इस योजना का ध्येय वाक्य है – ’’कोई भूखा न सोये।’’

श्री अन्नापूर्णा रसोई योजना का थाली मेन्यू

1. चपाती 300 ग्राम
2. दाल 100 ग्राम
3. सब्जी 100 ग्राम
4. चावल व मिलेट्स/ खिचड़ी 100 ग्राम
5. अचार
कुल  600 ग्राम

इन्दिरा रसोई योजना

  • 20 अगस्त 2020 को इन्दिरा रसोई योजना शुरू की गई थी।
  • एक थाली की कुल लागत 20 रु. थी, जिसमें सरकार द्वारा 12 रु. का अनुदान दिया जायेगा और व्यक्ति को इसका 8 रु. भुगतान करना होगा।
  • 1 फरवरी 2022 में इसमें परिवर्तन किया गया। एक थाली की कुल लागत 25 रु. आती है, तो सरकार द्वारा 17 रु. का भुगतान दिया जायेगा और व्यक्ति को इसका 8 रु. का भुगतान करना होगा।
  • एक थाली में 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी, 250 ग्राम चपाती और अचार मिलता था, यानी कुल मिलाकर 450 ग्राम भोजन मिलता था।
  • पहले यह योजना 358 नगर निकायों में शुरू की गई थी, बाद में बजट 2022-23 में इसे बढ़ाकर सरकार द्वारा 1000 कर दिया गया।

Leave a Comment